मेडम ने निराली चूत का भोसड़ा बनवाया

नमस्कार मेरे मित्रगणों  और सुनाइए कैसे आप सब , मेरा नाम प्रकाश सिंह  है और मेरी उम्र 32 साल है. में ग़ज़िआबाद  का रहने वाला हूँ और में एक ग़ज़िआबाद  कंपनी में जॉब करता हूँ. में आज तक न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी सरिता विहार में लगभग 15 भाभियों को चोद चुका हूँ और वो मेरी चुदाई से बहुत सॅटिस्फाइड होती है, क्योंकि में चुदाई सिर्फ़ चुदाई के लिए नहीं करता बल्कि पूरी संतुष्टी देना मेरी आदत है. दोस्तों आज में आपको एक ऐसी कहानी बता रहा हूँ जो बिल्कुल सच्ची है. मोटी गांड वाली लड़कियों की बात ही कुछ और है.

मेरी टीचर रसमिका  मेम मेरी 11वीं क्लास में साइन्स पढ़ाती थी, लेकिन में साइन्स में बहुत कमजोर था इसलिए मैंने मेम से आग्रह किया कि वो मुझे होम कोचिंग दे क्योंकि मेरे पापा के पास पैसों की कोई कमी नहीं थी, इसलिए वो मान गयी और मेरे घर पढ़ाने आने लगी. लड़किया क्युआ गजब चुदकड़ होती है दोस्तों.

 मेरे मित्रगणों  क्या मॉल थी उसकी चुची पीकर मजा आ गया एक दिन में घर में अकेला था, तो वो बोली कि प्रकाश सिंह  आज चलो में तुम्हें रिप्रोडक्षन सिस्टम पढ़ाती हूँ तो मैंने कहा कि ओके मेम. मेम बोली कि प्रकाश सिंह  रिप्रोडक्षन सिस्टम को जनन कहा जाता है, इसमें मादा और पुरुष के जनन पार्ट हिस्सा लेते है. मैंने पूछा कि मेम ये जनन पार्ट क्या होता है? तो मेम बोली कि प्रकाश सिंह  देखो शरीर के निचले हिस्से में तुम्हारा जनन पार्ट है और मेरे शरीर के निचले हिस्से में मेरा जनन पार्ट है. लड़को के जनन पार्ट को लंड कहते है और लड़कियों के जनन पार्ट को चूत कहते है. एक काम करो तुम खड़े हो जाओ, में तुम्हें दिखाती हूँ. मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.

 मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है में खड़ा हो गया और में उस दिन जीन्स पहने हुए था. मेडम ने मेरी जीन्स के हुक को खोल दिया और मेरी चैन को नीचे किया और मेरी जीन्स को नीचे गिरा दिया. अब में कच्ची में था, तो मेम बोली कि प्रकाश सिंह  ये कच्ची उतार दो. मैनें पूछा कि वो क्यों मेम? तो मेम बोली कि प्रकाश सिंह  तुम्हारा जनन पार्ट इसी कच्ची के अंदर है. मैंने कहा कि लेकिन मेम वो तो मेरी नूनी है जिससे में पेशाब करता हूँ. ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है   .

 क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये मेम बोली कि प्रकाश सिंह  दिखाओ तो कैसा है? तो मैंने कहा कि ओके मेम में खोलता हूँ और मैंने अपनी कच्ची अलग कर दी, तो मेम बोली कि वाउ प्रकाश सिंह  तुम्हारी नूनी तो बड़ी गोरी और टाईट है, देखो इसी नूनी को लंड कहते है ये जनन पार्ट का एक अहम हिस्सेदार है और बोली कि तुम्हारा लंड अब इस काबिल हो चुका है की वो रिप्रोडक्षन सिस्टम का हिस्सा बन सके, यह लंड मादा की चूत के अंदर जाकर उसे चोदता है तो थोड़ी देर तक चुदाई करने के बाद मादा की चूत में यह अपने पानी को गिरा देता है इसी से बच्चा पैदा होता है. मैंने कहा कि लेकिन मेम लंड से तो पेशाब बाहर निकलता है तो क्या इस पेशाब से बच्चा पैदा होता है? मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-9

 मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था मेम बोली कि प्रकाश सिंह  तुम अभी बहुत बच्चे हो, देखो और मेडम ने अपनी समीज को ऊपर उठाकर अपनी सलवार की तरफ दिखाते हुए कहा कि इसके अंदर मेरी चूत है, पहले जब मेरी शादी नहीं हुई थी तो इसे हम बुर कहते थे और जब मेरी शादी हो गयी तो यह बुर लंड से चुदने लगी, तो अब हम इसे चूत कहते है. उसने अपनी सलवार का नाड़ा खोल दिया और एक ही झटके में अपनी सलवार को अपनी कमर से अलग कर दिया. अब मेम ने अपनी सलवार के नीचे लाल रंग की पेंटी पहनी हुई थी. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.

 साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है वो बोली कि प्रकाश सिंह  इधर आओ और अपने हाथ को इस पेंटी के अंदर डालो. मैंने कहा कि जी मेम और मैंने अपना एक हाथ अंदर डाला, ओह माई गॉड इट्स सो हॉट तो मैंने तुरंत अपना हाथ बाहर निकाल लिया और मेम से बोला कि इसके अंदर इतनी गर्मी और भीगा हुआ है, क्या आपने पेशाब कर दिया है? तो मेम बोली कि नहीं प्रकाश सिंह , देखो और मेम ने अपनी पेंटी को उतार दिया और कहा कि ये मेरी चूत है और इसमें ऊपर काले रंग के बाल होते है इसे मैंने साफ कर दिया है, देखो यहाँ गहराई है ना. अब सुनिए चुदाई की असली कहानी.

 मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया मैंने कहा कि हाँ मेम ये तो नहर के जैसा है, दोनों बगल बाँध है और बीच में गहराई है. तो मेम बोली कि हाँ प्रकाश सिंह , इसी को चूत कहते है और तुम्हारा लंड इसी चूत में जाकर चोदेगा तो उसे चुदाई कहेंगे, चलो अब में तुम्हें प्रेक्टिकल करके दिखाती हूँ और मेम अपने पैरो को फैलाकर टेबल के बल खड़ी हो जाती है और बोली कि अब तुम अपना लंड इस चूत में डालो. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों  .

 मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया मैंने कहा कि लेकिन मेम बच्चा पैदा हो गया तो. तो मेम बोली कि कोई बात नहीं, में उसे पैदा नहीं होने दूँगी. में बोला कि लेकिन मेम मेरा तो लंड टाईट है और अगर यह आपकी चूत को फाड़ देगा तो? मेम बोली कि नहीं फाड़ेगा जब तुम उसे इसमें डालोगे तो यह अंदर चला जाएगा, तो में बोला कि ओके मेम. वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों  .

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-26

 मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया मेम अपने दोनों पैरो को फैलाकर टेबल के बल खड़ी हो गयी, तो मैंने अपना लंड मेडम की चूत के मुहाने पर रखा और धीरे से एक धक्का दिया तो मेरा लंड सरकता हुआ मेडम की चूत में चला गया. तो मेम के मुँह से आवाज निकली ओह, आहह, प्रकाश सिंह  धीरे-धीरे डालो, बड़ा टाईट लंड है तुम्हारा, मेरी चूत फाड़ डालेगा. ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मेरे मित्रगणों  .

 मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया में बोला कि ओके मेम और मैंने धीरे से दबाया तो मेरा पूरा का पूरा लंड मेम की चूत में चला गया. मेम के मुँह से आवाज निकल गयी हम्म प्रकाश सिंह , अब अपने लंड को बाहर खींचकर थोड़ा अंदर डालो. में बोला कि जी मेम और मैंने अपने लंड को थोड़ा बाहर खींचकर से .अंदर डाला. अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और अब मेम ने अपनी आँखे बंद कर ली थी. उह क्या मॉल था मेरे मित्रगणों  गजब .

 मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मेरे मित्रगणों   मैंने मेम से पूछा कि कैसा लग रहा है? तो मेम बोली कि प्रकाश सिंह  इसे ही चोदना कहते है, जब चूत में लंड आगे पीछे होता है तो देखो चूत से पानी निकलता है और चुदाई होती है, डालो और अंदर डालो, थोड़ा और अंदर दबाओ, आहह बड़ी अच्छी तरह से चुदाई कर रहे हो तुम, थोड़ा दाएँ से मारो, थोड़ा दाएँ और थोड़ा, हाँ डालो चूत के अंदर और थोड़ा डालो, म्म्म्मममममम प्रकाश सिंह  तुम्हारा लंड तो वाकई में जवान है, पेलो इसे और पेलो. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों  मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया.

 कुछ भी  हो माल एक जबरजस्त था  अब मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था, अब मेरा लंड वाकई में टाईट हो गया था. अब मेरे शरीर में एक अजीब सी कसावट पैदा हो गयी थी और ना जाने क्या हो गया? मैंने मेम से पूछा कि मेम आपकी चूत को मेरा लंड चोद रहा है कि पेल रहा है. मेम बोली कि प्रकाश सिंह  तुम्हारा लंड मेरी चूत को पेल रहा है और मेरी चूत तुम्हारे लंड से चुद रही है, प्रकाश सिंह  रूको अपने लंड को थोड़ा बाहर निकालो में घोड़ी बन जाती हूँ, तुम पीछे से पेलो, तो में बोला कि ओके मेम. अब मेम अपने दोनों हाथों को जमीन के बल करके घोड़ी बन गयी थी. उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये .

 मेरे मित्रगणों  मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है मैंने अपना लंड उनकी चूत में पीछे से लगाया और पेलना शुरू किया. तो मेम बोली कि हाँ प्रकाश सिंह  आह बड़ा मज़ा आ रहा है, चोदो और चोदो. में बोला कि ओके मेम आज में आपकी चूत को अपने लंड से फाड़ दूँगा. में इसे नहीं छोडूंगा, ये लो मेम मेरा धक्का. मेम बोली कि हाँ प्रकाश सिंह  फाड़ डालो इसे, पूरी तरह चोद दो आज, मेरी चूत बड़ी प्यासी है, आह, ऊऊऊफफफ लंड हो तो ऐसा और ज़ोर से चोदो, तुम वाकई में मेरे प्यारे स्टूडेंट हो, आज अपनी मेम की चूत की प्यास बुझा डालो. में बोला कि आज में आपकी चूत को चारो तरफ से चोदूंगा, इसका कचूमर निकाल दूँगा, मेम बड़ी मस्त चूत है आपकी, ऐसा लग रहा है में पिस्टन चला रहा हूँ, ये लो मेम मेरा धक्का, मेम बहुत अच्छा लग रहा है, मेम एक बात कहूँ आपकी चूत बड़ी निराली है. उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है.

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-13

मेरे मित्रगणों  एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया मेम बोली कि हाँ चोदो इस निराली चूत का भोसड़ा बना डालो और इस निराली चूत को चोदो, पेलो और ज़ोर से अंदर डालो, हाँ प्रकाश सिंह  ऐसे ही पेलते रहो, पेलते रहो अपने लंड को मेरी चूत में, पेलते रहो और थोड़ा दबाकर. मेरे मित्रगणों  चोदते  चोदते  कंडोम के चीथड़े मच गए.

 ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है में बोला कि हाँ मेम मुझे बहुत अच्छा लग रहा है आहह. मेम बोली कि हाँ प्रकाश सिंह  मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है और यह चुदाई का खेल करीब 15 मिनट तक चलता रहा.

 एक बार मैंने अपने मौसी की लड़की को जबरजस्ती चोद दिया में मेम से बोला कि मेम मेरे लंड से कुछ निकलने वाला है. तो मेम बोली कि ओके अपने लंड को बाहर निकालो. में बोला कि जी मेम और मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो पचक से एक धार मेरे लंड से बाहर आने लगी.

 है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई मेम ने उसे अपने मुँह में ले लिया और अपनी जीभ से चाटकर साफ किया और बोली कि देखो प्रकाश सिंह  यह वो पानी है जो अगर मेरी चूत के अंदर गिर जाता तो बच्चा पैदा हो जाता, आहह प्रकाश सिंह  वाकई में तुम बहुत अच्छा चोदते हो. में बोला कि थैंक्स मेम.

 मेरे मित्रो मामा की लड़की की चुदाई में बड़ा मजा आया मेम बोली कि प्रकाश सिंह  अब अपने कपड़े पहन लो, तो में बोला कि जी मेम और हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहन लिए. मेम बोली कि प्रकाश सिंह  तो समझ में आया रिप्रोडक्षन सिस्टम, तो में बोला कि हाँ मेम, तो मेम बोली कि ओके प्रकाश सिंह  अब में चलती हूँ. मेरे मित्रगणों  कई बार जबरजस्ती शॉट मरने में चुत से खून निकल गया उसको पेलने की इच्छा दिनों से है मेरे मित्रगणों .

Rate this post
error: Content is protected !!