मालकिन की गांड नसीब हुई

नमस्कार मेरे मित्रगणों और सुनाइए कैसे आप सब , आज में आपको मेरी एक सच्ची स्टोरी बताने जा रहा हूँ. में नासिक में रहता हूँ और मेरा नाम राहुल है. मेरी उम्र 27 साल है, मेरी हाईट 4.9 फुट 8 इंच और स्मार्ट लुकिंग हूँ. में सेल्लिंग का काम करता हूँ और मेरा काम नासिक के बाहर का ही है. मोटी गांड वाली लड़कियों की बात ही कुछ और है.

क्या गजब चुदकड़ अंदाज थी एक दिन में काम के सिलसिले में अँधेरी मुंबई गया था, वहाँ मुझे 2 महीने का काम था. में मेरे एक दोस्त के रिश्तेदार के यहाँ किराएदार बनकर रह रहा था. उनके घर में एक अंकल थे मिस्टर सुरेश यादव जो कि 40 साल के थे, उनकी वाईफ मिस सुजाता जो कि 37 साल की थी. उनके एक लड़की मिस रूपा जो कि कॉलेज में पढ़ रही थी. रूपा नासिक के कोई हॉस्टल में पढ़ती थी और वो छुट्टियों में ही घर पर आती थी. फिर जब में वहाँ पहुँचा तो सिर्फ़ अंकल और आंटी ही थे. मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.

मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है अब उन्होंने मुझे एक रूम दे दिया था, अब वहाँ मेरा सब सामान पड़ा रहता था और एक कपबोर्ड भी था. में पहले तो बहुत शरमाता था, फिर धीरे-धीरे बातचीत करते-करते में उन लोगो में घुलमिल गया. आंटी बहुत ही अच्छा खाना पकाती थी और बिल्कुल घर के जैसा और अंकल का भी नेचर काफ़ी अच्छा था. ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना लड खड़ा ही हो जायेगा.

मेरे मित्रगणों चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है में रोज सुबह 10 बजे ऑफिस चला जाता था और शाम को 7 बजे घर आता था. फिर हम सब लोग साथ में खाना खाते थे और फिर में सोने चले जाता था. अब मेरा रोज का यही रूटीन रहता था. अब मुझे एक बात कभी-कभी ख़टकती थी, आंटी मुझे कभी-कभी ऐसी नजरो से देखती थी कि मेरे तन बदन में आग लग जाती थी. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये.

मेरे मित्रगणों मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है वैसे उसको देखकर कोई नहीं बोल सकता था कि वो 37 साल की है और वो एक लड़की की माँ भी है, वो फिगर में थोड़ी सी मोटी थी, लेकिन फिर भी एकदम टाईट फिगर था. मुझे पहले बड़ी शर्म आती थी, वो जैसे मेरी तरफ देखना चालू करती, तो में अपना मुँह नीचे कर देता था, क्योंकि वो उम्र में मुझसे बड़ी थी, कभी-कभी तो वो अंकल के सामने ही मुझे देखती रहती थी, तो में डर जाता था. वैसे वो बातें बड़ी प्यारी-प्यारी करती थी और वो दोनों मुझे बड़े प्यार से रखते थे, मुझे वहाँ कोई पाबंदी नहीं थी, कभी भी किचन में जाओ, कुछ भी खाओ, मुझे कोई बोलने वाला नहीं था, वो दोनों नेचर में बड़े अच्छे थे. मेरे मित्रगणों क्या मलाई वाला माल लग रहा था.

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-30

चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए फिर एक दिन शाम को में ऑफिस से घर आया तो आंटी ने दरवाजा खोला. फिर में फ्रेश होकर सोफे पर बैठ गया, जब अंकल घर पर नहीं थे. फिर मैंने आंटी से पूछा कि अंकल कहाँ गये है? तो वो मुस्कुराकर बोली कि आज वो अपने फ्रेंड के बेटे को देखने हॉस्पिटल गये है और रातभर वहीं रुकने वाले है और मुझे बताया कि में वहाँ अंकल को खाना देकर फिर आऊं. साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है.

मेरे मित्रगणों एक बार चोदते चोदते मेरा लंड घिस गया में जल्दी से हॉस्पिटल पहुँच गया, अब वहाँ काफ़ी भीड़ थी. फिर मैंने अंकल को खाना दिया और फिर थोड़ी देर वहाँ रुका और खाली टिफिन लेकर वापस घर पहुँच गया, अब मुझे बड़ी तेज़ भूख लग रही थी. वहा का माहौल बहुत अच्छा था मेरे मित्रगणों.

मेरे मित्रगणों उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया फिर घर जाकर सबसे पहले मैंने और आंटी ने खाना खाया और फिर में टी.वी देखने लगा और आंटी अपना काम करने लगी. अब वो अपना काम करते-करते बार-बार मेरी तरफ प्यासी निगाहो से देख रही थी, अब में एकदम डर गया था. फिर अचानक से वो मेरे पास आकर टी.वी देखने बैठ गई, तो में कुछ नहीं बोला. उसने सलवार पहनी हुई थी और दुपटा नहीं पहना था. वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों .

मेरे मित्रगणों चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया थोड़ी देर के बाद वो बोली कि बेटा दूध पिओगे. तो मैंने कहा कि हाँ आंटी, तो वो हंसकर किचन में चली गई. फिर मुझसे भी रहा नहीं गया और में भी पीछे-पीछे किचन में चला गया. अब वो मेरे लिए दूध गर्म कर रही थी और अब वो मुझे किचन में देखकर मुस्कुराने लगी थी और अपनी जीभ होंठो पर घुमाने लगी थी. ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मेरे मित्रगणों .

में भी हिम्मत करके उसके पास गया और धीरे से मेरे दोनों हाथ उसकी गोल-गोल गांड पर रख दिए और उसे ज़ोर से मेरी तरफ खींचा तो वो शर्माकर बोली कि बेटा क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि कुछ नहीं कर रहा हूँ. फिर तभी आंटी ने मुझे धक्का देकर अपने से अलग किया और बोली कि बेटा शर्म करो, में तुमसे बड़ी उम्र की हूँ. तो मैंने भी कहा कि तो मेरी तरफ ऐसे रोज देखते हुए आपको शर्म नहीं आती? तो वो कुछ नहीं बोली.
मेरे मित्रगणों एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया फिर में धीरे से उसके पास गया और उसे ज़ोर से पकड़कर चूमने लगा. अब वो धीरे-धीरे मेरी बाँहों में पिघलने लगी थी. फिर मैंने उसके कपड़े निकालने शुरू किए तो पहले तो वो ना ना बोलती रही और फिर वो भी अपने आप ही कपड़े उतारने लगी. उह क्या मॉल था मेरे मित्रगणों गजब .

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-9

मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मेरे मित्रगणों मैंने कहा कि चुदवाना है तो नखरे क्यों करती हो? तो वो बोली कि आज से पहले मैंने तुम्हारे अंकल के सिवाय किसी और से नहीं चुदवाया है. फिर मैंने कहा कि एक बार मेरा लंड ले लोगी तो किसी और से नहीं माँगोगी. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया.

कुछ भी हो माल एक जबरजस्त था ये सुनकर उसने अपने दोनों हाथ से मेरी पेंट उतारना शुरू किया. फिर जैसे ही उसने मेरा लंबा सा लंड देखा तो वो पागल हो गई और अपने दोनों हाथों से मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर चूमने लगी और बोली कि मुझे बरसो से इसी लंड का इंतज़ार था और फिर से अपने मुँह में लेकर पागलों की तरह चूसने लगी.
अब मुझे भी मज़ा आ गया था, अब एक बड़ी उम्र की औरत पागलों की तरह मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी और वो चूसती ही रही. फिर मैंने धीरे से उसे पकड़कर सोफे पर लेटाया और मेरी उंगली को उसकी चूत में डालकर हिलाने लगा. अब वो तो मानो पागलों की तरह हवा में उछलकूद करने लगी थी, मानो कोई छोटी सी बच्ची हो. उसको देखकर किसी का मन बिगड़ जाये .

मेरे मित्रगणों मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है अब वो बार-बार अपनी गांड ऊपर उठा रही थी. अब उसे बड़ा मज़ा आ रहा था, अब वो एक पल के लिए भी नहीं रह सकती थी. फिर उसने ज़ोर से चिल्लाकर कहा कि अब डाल दे मेरी चूत में ये तेरा लंड और फाड़ डाल आज इसे. फिर ये सुनकर में भी पागल हो गया और मैंने मेरा लंड उसकी चूत पर रख दिया और हिलाना चालू किया.
अब वो तो मानो स्वर्ग के मज़े ले रही थी और अपनी गांड को उछाल-उछालकर मेरा पूरा लंड डलवा रही थी और बोल भी रही थी चोदो ज़ोर-ज़ोर से चोदो, फाड़ डालो मेरी चूत को, बहुत मज़ा आ रहा है, आज जी भरकर चोदो मुझे, सारी रात चोदो और में ज़ोर-ज़ोर से झटके मारते गया. फिर कुछ देर के बाद वो शांत पड़ गई, तो मैंने कहा कि क्या हुआ? तो वो बोली कि बस थक गई. उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है.

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-25

मेरे मित्रगणों एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया मेरे मित्रगणों चोदते चोदते कंडोम के चीथड़े मच गए.
मेरे मित्रगणों चोदते चोदते कंडोम के चीथड़े मच गए मैंने कहा कि इतने में थक गई, थोड़ी देर पहले तो सारी रात चुदवाने की बात कर रही थी. फिर वो बोली कि वो तो में जोश में थी. फिर मैंने कहा कि में तो अभी भी जोश में हूँ, चल आज तेरी गांड भी मार लूँ, तेरी गांड बड़ी अच्छी है. फिर वो बोली कि नहीं बेटे बहुत दर्द होगा. फिर मैंने कहा कि एक बार गांड मरवाएगी तो बड़ा मज़ा आएगा और फिर मैंने उसे ज़ोर से पकड़कर उल्टा लेटा दिया और उसकी गांड मारने लगा. ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है.

ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है पहले तो वो चिल्लाई और फिर थोड़ी देर के बाद उसे भी मज़ा आने लगा. अब वो अभी अपनी गांड ऊपर कर-करके मरवा रही थी. फिर मैंने कहा कि देखा कितना मज़ा आ रहा है? तो वो बोली कि हाँ बेटा तेरे अंकल ने आज तक मेरी गांड नहीं मारी, तू पहला मर्द है जिसको मेरी ये गांड नसीब हुई है और मेरी गांड को तेरा ये लंड नसीब हुआ है. फिर ये सुनकर मेरा लंड मानो हथोड़ा बन गया और उसकी गांड में घुसने लगा.
फिर थोड़ी देर के बाद मेरा पानी उसकी गांड में ही निकल गया और उसकी पूरी गांड मेरे पानी से भर गई. फिर में थोड़ी देर तक शांत होकर उसकी गांड पर ही सो गया और उस रात हम ऐसे ही नंगे एक दूसरे से चिपककर सो गये. एक बार मैंने अपने मौसी की लड़की को जबरजस्ती चोद दिया.

है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई जब सुबह हम दोनों उठे तो तभी हमने एक साथ बाथ लिया. फिर मैंने बाथरूम में भी एक बार फिर से उसे चोदा. अब वो पूरी तरह से संतुष्ट हो गई थी. फिर मैंने 2 महीनों में उसे बहुत बार चोदा, जब-जब अंकल मार्केट जाते या बाहर जाते, तो वो नंगी होकर मेरे पास आ जाती और में बोलता कि इतनी बड़ी होकर घर में नंगी घूमती हो. तो वो कहती कि बड़े बच्चे नंगे ही घूमते है. मेरे मित्रो मामा की लड़की की चुदाई में बड़ा मजा आया मेरे मित्रगणों कई बार जबरजस्ती शॉट मरने में चुत से खून निकल गया उसकी बूब्स देखते ही उसको पिने की इच्छा हो गयी.

Rate this post
error: Content is protected !!