गर्लफ्रेंड को पटाकर पहली बार चोदा

नमस्कार मेरे मित्रगणों  और सुनाइए कैसे आप सब , मेरा नाम राजीव सावंत  है और मुझे चुदाई  कहानिया और चुटकुले पसंद है. मैं बबिता  में रह कर पढाई कर रहा हु. बात उस समय की है, जब मैं 18  साल का था और अपने घर में रहता था. मेरे घर के पास में ही एक लड़की रहती थी, जिसका नाम बबिता  था. मैं और बबिता  एक दुसरे को पसंद करते थे और मैं कभी – कभी उसको अपने घर बुलाकर उस से बातें करता था. कभी – कभी हम किस भी कर लिया करते थे. लेकिन हम दोनों एक ही ऐज के थे और चुदाई का प्लान नहीं बना पाए थे. फिर, मैंने कॉलेज में एडमिशन में लिया और घर में ज्यादा लोग होने के कारण और पढाई डिस्त्रब होने के कारण बाहर कमरा ले लिया. उसने भी कॉल सेण्टर में एक जॉब ज्वाइन कर ली थी. बबिता  का फिगर स्लिम है और वो बहुत ही गोरी लड़की है. अब आप लोगो को ज्यादा बोर ना करते हुए, मैं अपनी स्टोरी पर आता हु. लड़किया क्युआ गजब चुदकड़ होती है दोस्तों.

 मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है मैंने बबिता  से उसका नंबर ले लिया और फिर हम दोनों के बीच मेसेज और मोबाइल पर बातों का दौर स्टार्ट हो गया. तब बात करते – करते एक दिन, मैंने उसको थोड़ा सा चुदाई  मेसेज सेंड कर दिया. पहले तो वो थोड़ा नाराज हुई, बट बाद में वो भी चुदाई  मेसेज में चैट करने लगी. एक मैं उस से मोबाइल पर बात कर रहा था और तभी मैंने उस से कहा, कि मैं तुमसे मिलना चाहता हु. तो वो बोली – मिल कर क्या करना है? मैं तुमसे डेली बात तो करती हु. फिर मैंने उस से हॉट चैट करनी शुरू कर दी और बाद में चुदाई की बात भी. वो गरम हो गयी थी और फिर मैंने उसको फिन्गेरिंग करना बताया. उस दिन वो लाइफ में पहली बार झड़ी और उसकी चूत से खूब सारा सफ़ेद पानी निकला. कुछ दिन बाद, उसने मुझसे चुदवाने का मन बनाया और हम दोनों एक – दुसरे को पहले से ही जानते थे, इसलिए कोई प्रॉब्लम भी नहीं थी. मैंने उसको अपने रूम पर बुलाकर चोदा चाहा और वो राज़ी हो गयी. मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है.

 मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है     उस दिन वो कॉल सेण्टर ना जाकर, मेरे रूम पर आ गयी और मैंने उसके गालो पर किस कर ली. वो बहुत एक्साइट थी और फिर बोली – ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा – तुमसे प्यार कर रहा हु. आई लव यू. क्या तुम भी मुझे प्यार करती हो? उसने भी मुझे हाँ में आंसर दिया. फिर क्या था,  क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये मैंने उसे बाहों में भर लिया और पागलो की तरह किस करने लगा. वो मेरे रूम पर चूड़ीदार सलवार और कुरता पहनकर आई थी. जिसमे से उसके बूब्स और मस्त गांड उभर कर आ रही थी. वो बहुत ही मस्त लग रही थी. मेरा लंड पूरा खड़ा हो चूका था. जब मैं किस करने लगा, पहले तो उसने कोई रेस्पोंस नहीं दिया. बट थोड़ी देर बाद, वो भी मेरे साथ देने लगी. किस करते – करते, कब मेरा हाथ उसके बूब्स पर पहुच गया. मुझे पता ही नहीं चला. थोड़ी ही देर में वो बहुत एक्साइट हो गयी थी. फिर मैंने उसका कुरता उतार दिया और उसको किस करने लगा. साथ में ही मैं उसको कमर के ऊपर से सहला रहा था. उसकी साँसे बहुत तेज होने लगी थी और वो मेरा नाम ले रही थी और मुझसे चिपक गयी थी. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था और मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी और उसके बूब्स को चूसने लगा. मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है.

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-27

 मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था     उसके बूब्स एकदम तने हुए थे और मैं उन्हें चूस रहा था. बबिता  ने मेरा लोअर उतार दिया और मेरा लंड सहलाने लगी. मुझे उसका चुसना बहुत अच्छा लगा और फिर वो आआआअ अहहाह अहहः ऊआओअओअ आआ य्म्म्मम्म की आवाज़े करने लगी. हम किस करते रहे. मैंने किस करते – करते ही अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से उनकी चूत पर रख दिया.. क्या बताऊ दोस्तों… उसकी चूत कितनी ज्यादा गरम थी… कुछ देर तक मैं ऐसे ही सहलाता रहा और फिर मैंने उसको अपनी गोद में उठा लिया और बेड पर लिटा दिया. अब मैंने उसकी सलवार को निकाल दिया और खुद भी पूरा नंगा हो गया. फिर मैंने उसकी उसकी गीली पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया और उसके कान पर, गालो पर, होठो पर उसको उल्टा करके उसकी बेक पर किस करने लगा और चाटने लगा. हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मुझसे रहा नहीं गया और तब मैंने उसकी लाल धारीदार पेंटी को उतार दिया और उसकी छोटी सी चूत को देखने लगा. मेरे मुह में पानी आ गया था और मैं 69 पोजीशन में उसकी चूत को चूसने लगा और साथ – साथ उसकी गोरी जांघे और कमर के आसपास भी बहुत चूसने चाटने लगा. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.

 साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है मैं चूसते हुए, उसकी बहुत टाइट चूत में ऊँगली भी कर रहा था. जो उसको बहुत पसंद आया और वो और तेजी से मोअन करने लगी. वो तो जैसे झड़ने ही वाली थी. २ मिनट बाद वो झड़ गयी और मैं उसकी चूत का सारा पानी पी गया, जो मुझे बहुत अच्छा लगा. वो भी एक्साइट थी और मेरा लंड चूसने लगी. थोड़ी ही देर बाद, मैं भी झड़ने लगा और उसने भी मेरा पूरा पानी पी लिया. अब वो हांफ रही थी और मुझसे चिपकी हुई थी. अब मैं उसकी आँखों में चुदाई की भूख देख रहा था और मैं उसके पास लेटकर उसको प्यार करने लगा. हम दोनों फिर एक बार गरम हो गये और उसने मुझे चोदने को कहा. मैंने उसके दोनों पैरो को उठा दिया और फैला दिया. अब उसकी चिकनी गुलाबी चूत मेरे लंड के सामने थी और मेरा लंड अन्दर जाने को तैयार था. मैं उसकी चिकनी चूत पर लंड सहलाने लगा और वो तड़पने लगी. मैंने उसकी गीली चूत पर लंड रख कर दबाया, तो वो उछल पड़ी और थोड़ा डर भी गयी थी. अब सुनिए चुदाई की असली कहानी.

Read New Story..  Drishyam, ek chudai ki kahani-23

 मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया फिर मैंने उसको एक छोटी सी हॉट चुदाई  मूवी दिखाई. तब वो समझ गयी और अपनी टाँगे फैला दी. मैंने फिर धीरे से उसकी चूत में लंड डाला और उसको बहुत दर्द हुआ. मैं उसके दर्द को कम करने के लिए, उसको किस करने लगा और उसकी चूची को चूसने लगा. थोड़ी देर बाद, वो रिलैक्स हुई और अपनी गांड हिलाने लगी. मैं भी तैयार था. मैं झटके मारने लगा और साथ में वो भी उछलने लगी. उसकी गीली चूत छप – छप – छप – छप की आवाज़ कर रही थी. जो कि मेरा जोश और भी बढ़ा रही थी. फिर मैं उसको बहुत तेजी से चोदने लगा और वो चुदवाने लगी. हम दोनों बहुत ही गरम थे. धीरे – धीरे उसका बदन अकड़ने लगा और उसने अपने नाख़ून मुझ में गडा दिए और बाद में वो झड़ गयी. अब मेरा लंड उसकी चूत में बड़ी ही आसानी से जा रहा था और थोड़ी देर बाद, मैं भी झड़ गया और अपना माल उसकी चूत में डाल दिया. पूरी चुदाई के बाद, मैंने उसको अपने पास लिटा लिया और उसको प्यार करने लगा. उसने मुझे आई लव यू और मेरी बाहों में आ गयी. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों  .

 मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया हम थोड़ी देर, यू ही रिलैक्स हुए और थोड़ी देर बाद हम फिर से गरम हो गये और उसने कहा – उसकी चूत में दर्द हो रहा है और मैं फिर भी उसको मनाया और मैं बबिता  की चूत चूसने लगा. अब उसकी चिकनी चूत और भी टेस्टी लग रही थी और वो भी मज़े से मेरा लंड चूस रही थी. फिर मैंने उसको अपने लंड पर बैठाया और धीरे – धीरे चोदने लगा. हम दोनों को इस बार ज्यादा मज़ा आ रहा था. मैं बबिता  को अपने ऊपर बैठा कर चोद रहा था और वो बहुत मज़े से उछल रही थी. उसकी चूत से अजीब सी पच – पच – पच – पच की आवाज़ आ रही थी और वो बीच – बीच में मुझे किस भी कर रही थी. बबिता  का गोरा बदन चमक रहा था और उसका फेस लाल था. वो आआआ अहहह्हः अहहहः ऊऊईईईईईईईईईम्मम्मम्माआआआआआआआआआआआअ … कर रही थी और बोल रही थी… आई लव यू राजीव सावंत .. अब मैं रोज़ तुमसे चुद्वायुंगी. मेरी चूत आज फाड़ दो.. आई लव यू… आई लव यू कहे जा रही थी. जो मेरा जोश बड़ा रहा था. फिर जब मैं झड़ने वाला था, तो मैं रुक गया और वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों  .

Read New Story..  दोस्त के घर पर अजीब मज़ा

 मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया  पोजीशन बदल ली. अब वो घोड़ी बन गयी और मैं उसको पीछे से चोदने लगा. वो लंड डालते ही एक बार और झड़ गयी. उसने मुझसे कहा, कि वो थक गयी है और ६ बाद झड़ चुकी है.

ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मेरे मित्रगणों   तब मैं उसको जोर – जोर से चोदना शुरू कर दिया. वो एक बार और झड़ गयी और बहुत दर्द होने की वजह से रोने लगी. तब मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल लिया और वो तुरंत उठ कर मेरा लंड चूसने लगी. मैं उसके मुह में ही झड़ गया. अब हम दोनों ही झड़ चुके थे. मैंने उसके चार घंटे तक चोदा था और फिर हम साथ में नहाये, जहाँ मैंने उसकी चूत को चाट कर साफ़ किया और उसने मेरा लंड चूसा और फिर धोया. मैंने उसकी चूत में ऊँगली की और वो इतनी एक्साइट हो गयी, कि झड़ने के साथ ही पेशाब कर दिया. फिर हम दोनों नहाये और कपड़े पहने. उसने मुझे एक लॉन्ग किस किया और फिर हमने बिस्तर ठीक करके नाश्ता किया और उसने अनवांटेड ७२ की टेबलेट ले ली और बबिता  अपनी पहली चुदाई के बाद, बहुत खुश थी. बबिता  और मैंने एक दुसरे को चुदाई के बहुत मौके दिए और आगे मैंने कैसे बबिता  को रात में रूम में बुलाकर चोदा और कैसे मालिश करके तेल लगा कर उसकी गांड भी मारी, जो मुझे बहुत पसंद आई. मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया.

5/5 - (1 vote)
error: Content is protected !!